PCOD / PCOS – कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

सेक्स हार्मोन्स (एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन) के असंतुलन के कारण ग्रभास्य या अंडाशय में छोटी छोटी गांठे बन जाती है| जिसे PCOS या PCOD कहते हैं | इसका प्रभाव महिलाओ में मासिक धर्म और प्रजनन की क्रिया पर भी पड़ता है| इससे प्रजनन क्षमता कम हो जाती है| और गर्भधारण करने में भी दिक्कत आती हैं |

PCOD

PCOD / PCOS – कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

आज के समय में pcod की समस्या शिशु को जन्म देने वाली वाली महिलाओ में ज्यादा देखने को मिलती है| जो एक विकार है| अब ये छोटी उम्र की महिलाओ में देखने को मिलती है| इस बीमारी के बारे में बहुत सी महिलाओ को पता होता है| क्योकि ये महिलाये अपने से अधिक उम्र की महिलाओ में PCOD की समस्या को देख चुकी होती है| और बहुत सी महिलाओ को PCOD के बारे में नही पता होता है|

PCOD होने पर महिलाओ में विभिन्न प्रकार के लक्षण पाए जाते है| जैसे अनियमित मासिक धर्म, चहरे पर अधिक बाल उगना, बाल झड़ना, तनाव, चहरे पर कीलमुहांसे होना, बालो में रूशी की समस्या, पेट दर्द की समस्या, मोटापा इत्यादि| लक्षण दिखने को मिलते है|

महिलाओ में pcod होने के बहुत से कारण हो सकते है| जैसे असंतुलित आहार का सेवन , मधुमेह की बीमारी, उच्च रक्तचाप, कोलेस्ट्रॉल का बढना, HDL का कम होना, मोटापे की समस्या, तनाव इत्यादि की समस्या होने पर pcod होने की समस्या ज्यादा पाई जाती हैं |

PCOS या PCOS की समस्या में ब्लड टेस्ट करवाया जाता हैं जो की सेक्स हार्मोन लेवल को चेक करता हैं | थाइरोइड फंक्शन टेस्ट होता हैं जो यह चेक करता हैं की आपका शरीर कितनी मात्रा मे थाइरोइड हार्मोन स्त्रावित कर रहा हैं | फास्टिंग ग्लूकोस टेस्ट , जो यह चेक करता हैं की खून में शुगर की कितनी मात्रा हैं | लिपिड लेवल टेस्ट जो यह चेक करता हैं की आपके खून में कोलेस्ट्रॉल लेवल कितना हैं |

PCOS और PCOD से बचने के कुछ घरेलु उपाय

दालचीनी का सेवन करे|

20 से 30 ग्राम दालचीनी पावडर ले और इसे 50 मिलीलीटर गर्म पानी मे डालकर सेवन करे| आप दालचीनी पावडर को दही में डालकर या चाय में डालकर भी सेवन कर सकते है| इससे दही का स्वाद भी बढेगा और इससे अनियमित मासिक धर्म की समस्या कम होगी|
आप इसका सेवन 15 दिन तक करे| जिससे की आपको इसका रिजल्ट मिल सके|

ब्रोकली

ब्रोकली जिसे साधारण भाषा में हरी गोभी कहा जाता है| जो एक हरी सब्जी होती है| इसमें विटामिन सी और फाइबर पाया जाता है| जो गर्भाशय में बनी छोटी छोटी गांठो को कम करती है| और मासिकधर्म की समय सीमा को भी नियमित करती है| ब्रोकली का सेवन हर महिला को करना चाहिए| क्योकि इसमें pcod को कम और दूर करने के गुण पाए जाते है|
ब्रोकली को उबालकर 1 सप्ताह में 2 बार सेवन करना चाहिए|

संतुलित आहार का सेवन करे|

महिलाओ को pcod की समस्या से बचने के लिए संतुलित और अच्छे आहार का सेवन करना चाहिए| जैसे अलसी ,फिश, अखरोट , बादाम, इसके साथ ही बिटामिन B वाले आहार , फल , सब्जिया को भी अपनी डाईट में शामिल करना चाहिए| जिससे pcod होने की चास कम हो जाते है| और स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है|

मेथीदाना

PCOD के विकार से जिन महिलाओ का कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ जाता है| या हार्मोन्स का संतुलन बिगड़ जाता है| जिससे ग्रभास्य में छोटी छोटी गाठे बन जाती है| और गर्भधारण में भी समस्या होती है| इस प्रकार की बीमारी से बचने के लिए मेथीदाना का सेवन करे| जो कोलेस्ट्रॉल को कम करता है| और हार्मोन्स को संतुलित करता है|
विधि : 20 से 30 ग्राम मेथीदाना ले इसे किसी पात्र में डालकर 5 से 6 घन्टे भिगोकर रख दे| सुबह के समय भीगा हुआ मेथीदाना 1 बड़े चम्मच शहद के साथ सेवन करे|
आप मेथीदाना का सेवन खाना खाने से पहले भी कर सकते है| जिससे मोटापा कम होता है| जो एक pcod का ही कारण है|

अलसी का उपयोग करे|

pcod की समस्या से महिलाओ के शरीर में androgen का स्तर बढ़ जाता है| और कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ जाता है| जिससे महिलाओ के प्रजनन और गर्भधारण में समस्या होती है| इस प्रकार की समस्या से बचने के लिए अलसी का सेवन करे|
20 ग्राम पीसी हुई अलसी ले और इसे 50 मिलीलीटर पानी में डालकर सेवन करे| जो androgen और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करती है| आप अलसी का सेवन कम से कम 15 दिनों तक करे| जिससे की PCOD से होने वाली शिकायत को दूर किया जा सके|

सेब के सिरका का सेवन करे|

जिन महिलाओ में ब्लड शुगर कण्ट्रोल नही होता और इसुलिन कम बनता है व हार्मोन्स संतुलित नही होते है| जिससे महिलाओ में pcod होने के चान्स ज्यादा होते है|
आज हम आपको बताएगे की कैसे आप सेब के सिरके का सेवन करके ब्लड शुगर को कण्ट्रोल , इसुलिन को ज्यादा और हार्मोन्स को संतुलित कर सकते है| और PCOD की समस्या को दूर कर सकते है|
आप सुबह और शाम के समय 5 ग्राम सेब के सिरके को 1 गिलास पानी में डालकर सेवन करे| आप इसका प्रयोग 1 महीने तक करे | जो PCOD की समस्या को दूर करता है|

अन्सुलित आहार का सेवन न करे|

जिन महिलाओ में pcod की समस्या पाई जाती है| वो महिलाये अन्सुलित आहार का सेवन न करे| जैसे स्मोकिंग , शराब , कोल्ड्रिंक, जंक फ़ूड इत्यादि | क्योकि ये सभी अन्सुलित आहार शरीर में टोक्सिन पैदा करती है| साथ ही साथ शरीर को भारी मात्रा में नुकसान भी पहुचाती है|
पालक का सेवन करे|

पालक में बहुत कम केलोरी पाई जाती है| इसके साथ ही इसमें विटामिन भी प्रचुर मात्रा में पाए जाते है| जो PCOD की समस्या को दूर करते है| आज हम आपको बताएगे की कैसे पालक का सेवन करके PCOD की समस्या को दूर कर सकते है|
आप पालक का सेवन विभिन्न प्रकार से कर सकते है| जैसे पालक की सब्जी बनाकर, दाल में डालकर, या किसी अन्य आहार में डालकर भी इसका सेवन किया जा सकता है|
जौ का सेवन करे|

जौ एक साबुत और मोटा आनाज होता है| जिसमें विटामिन प्रचुर मात्रा में पाए जाते है| जौ का सेवन करने से PCOD की समस्या दूर होती है| आप जो कम प्रयोग विभिन्न प्रकार से कर सकते है| जैसे जो के आटे की रोटी बनाकर, दलिया के रूप में इत्यादि जो PCOD के विकार को कम करते है|

Amit

Dr. Amit , DNM, DC, CNS, is a certified doctor of natural medicine, doctor of chiropractic and clinical nutritionist with a passion to help people get healthy by using food as medicine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *